Gohana

सरोज बाला ने बनाए सबसे अच्छे गुड के चावल और सुरेश ने माल पूडे

फोटो- विजेता महिलाओं को सम्मानित करते हुए मुख्यमंत्री के ओएसडी गजेंद्र फोगाट (काले कपड़ों में)।

मनोहारी रसोई प्रतियोगिता में बनाए गए 21 तरह के व्यंजन

हरियाणा उत्सव: गोहाना

आजादी का अमृत महोत्सव के तहत हरियाणा कला परिषद रोहतक मंडल द्वारा ठसका रोड स्थित कबीर आश्रम में तीन दिवसीय मनोहारी रसोई प्रतियोगिता का आयोजन किया।  शनिवार को रसोई प्रतियोगिता का सम्पन्न समारोह आयोजित किया गया। प्रतियोगिता में 21 पुराने व्यंजन बनाए गए। कार्यक्रम का संचालन संचालक गौतम सत्यराज ने किया। समारोह में विशिष्ट अतिथि मुख्यमंत्री के ओएसडी गजेंद्र फोगाट, कला परिषद निदेशक संजय भसीन व आस्ट्रेलिया से विख्यात कलाकार विकास श्योराण ने विजेताओं को पुरस्कृत किया। प्रतियोगिता में गुड के चावल तैयार करने वाली सरोज बाला को प्रथम, माल पूडे बनाने वाली सुरेश को दूसरा, फिक्की खीर बनाने वाली मुन्नी को तीसरा पुरस्कार दिया गया।

मुख्यमंत्री के ओएसडी गजेंद्र फोगाट ने कहा कि मुख्यमंत्री की सोच है की हरियाणा की संस्कृति की महक भारत के अलावा विदेशों में पहुंचे। अपनी संस्कृति पर गर्व होता है। आस्ट्रेलिया के मेलबर्न में रहने वाले विकास श्योराण ने भी हरियाणवी संस्कृति को विदेशों में पहुंचाने का काम किया है। गजेंद्र फोगाट व विकास श्योराण दोनों ने महिलाओं के साथ मिलकर देसी गीत गाये व उनके साथ ठुमके लगाए। सभी विजेता प्रतिभागियों की प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं चार सांत्वना पुरस्कार दिए गए। कला परिषद के निदेशक संजय भसीन ने कहा की हरियाणवी संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए भविष्य में भी इस तरह की प्रतियोगिता आयोजित होती रहेंगी।

इसके अलावा मीठी कढ़ी बनाने वाली मुन्नी, मीठे चावल बनाने वाली सोनिया, लापसी बनाने वाली कमला व मीठा दलिया बनाने वाली नन्ही को 500-500 रुपये सांत्वना पुरस्कार के रूप में देकर सम्मानित किया गया। इसके अलावा दूसरी अन्न से संबंधित व्यंजन प्रतियोगिता में बाजरे की रोटी बनाने वाली किशनदेई को प्रथम पुरस्कार के रूप में 3100 रुपये, मेसी रोटी बनाने वाली गीता को द्वितीय पुरस्कार के रूप में 2100 रुपये तथा बाजरे की रोटी बनाने वाली सुदेश को तृतीय पुरस्कार के रूप में 1100 रुपये से सम्मानित किया गया। इसके साथ-साथ भतेरी, नमकीन दलिया बनाने वाली ममता, खंडली रोटी बनाने वाली बोबली तथा चूरमा बनाने वाली कृष्णा को सांत्वना पुरस्कार के रूप में 500-500 रुपये से सम्मानित किया गया। ग्रामीण कलाकार दीपक आर्य, आनंद,  सचिन,  दीपांशु, राज व सत्यवान कार्यक्रम में सहयोग किया। इस मौके पर रामकुमार माहरा, पूर्व पार्षद विजय निनानिया, रमेश देहराज, राजवीर दमानिया, बलबीर राणा आदि मौजूद रहे।

Related posts

जातिगत आधार पर जनगणना कराने के समार्थन में कश्यप समाज

Haryana Utsav

पुंहाना नगर पालिका की चेयरपर्सन को बहाल करने की मांग।

Haryana Utsav

काव्य-पाठ और निबंध लेखन प्रतियोगिता में दीपक प्रथम

Haryana Utsav
error: Content is protected !!