Rohtak

25 नवंबर से एमडीयू में लगेंगी ऑफलाइन कक्षाएं, वैक्सीन लगवाने वाले काे ही मिलेगी एंट्री

नो मास्क नो सर्विस का नियम सभी फैकल्टी व स्टूडेंट्स पर लागू किया

हरियाणा उत्सव/ बीएस बोहत

राेहतक: कोरोना काल के डेढ़ साल बाद आखिर एमडीयू को खोलने का फैसला ले लिया गया है। अब इसके लिए फिजिकल मोड में विवि खुलने को लेकर नई गाइडलाइन भी जारी कर दी गई है। इसमें तय कर दिया गया है कि नो मास्क नो सर्विस का नियम सभी फैकल्टी व स्टूडेंट्स पर लागू किया जाएगा। इसके लिए सभी विभागों, संस्थान और कार्यालयों को संदेश जारी कर दिया गया है।

लाइब्रेरी का रीडिंग हाल एक दिसंबर से लाइब्रेरियन की ओर से व्यवस्था बनाने पर ही खोला जाएगा। गुरुवार को एमडीयू को खोलने को लेकर सभी विभागों के अध्यक्ष को सूचित कर दिया गया कि वे कोविड-19 से बचने के लिए परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग और सेनिटाइजेशन करवाना सुनिश्चित करेंगे।

वहीं विवि में आने वाले विजिटर के लिए भी वैक्सीन होना या आरटी-पीसीआर की रिपोर्ट होना जरूरी है। विजिटर को पास जारी किए जाएंगे, ताकि वे विवि परिसर में आ सके। विवि व सिक्योरिटी स्टाफ की ओर से पास जारी किए जाएंगे। चीफ सिक्योरिटी ऑफिसर यह सुनिश्चित करेंगे कि सिर्फ पास होल्डर ही एंट्री कर सकेंगे।

हॉस्टल के लिए वैक्सीन लगवाने वाले स्टूडेंट्स को ही अनुमति दी जाएगी

यदि स्टूडेंट ने वैक्सीन की एक ही डोज लगवाई है तो उसे कोविड जांच की रिपोर्ट जमा करवानी होगी। इसके लिए तय किया गया है कि ऐसे स्टूडेंट 72 घंटे पहले आरटी-पीसीआर रिपोर्ट लाकर जमा करवाए। इसी के साथ तय किया गया है कि हॉस्टल के लिए भी पूरी तरह से वैक्सीन लगवाने वाले स्टूडेंट्स को ही अनुमति दी जाएगी।

दूसरी यूजी-पीजी को नहीं मिलेगा हॉस्टल: इसी के साथ इस बार शर्त और भी लगा दी गई है कि जो स्टूडेंट्स डिप्लोमा, सर्टिफिकेट और दूसरी यूजी-पीजी कर रहे हैं, उन्हें भी हॉस्टल में रहने की मनाही कर दी गई है। साथ ही रोजगार या कहीं पर वेतन भोगी है तो उन्हें भी हॉस्टल नहीं दिया जाएगा। फ्रेश स्टूडेंट को एंट्री के लिए पहचान पत्र देने के लिए एचओडी सुनिश्चित करेंगे। वहीं हॉस्टल में दाखिले के लिए 24 नवंबर तक आवेदन करने को कहा गया है। एचओडी भी चीफ वार्डन को उन्हीं स्टूडेंट को आवेदन भेजना होगा, जो वैक्सीन लगवा चुके हैं।

ऑफलाइन मोड में खुलवाने के लिए किया संघर्ष
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश सह-मंत्री सन्नी नारा ने बताया कि विद्यार्थी परिषद विश्वविद्यालय को ऑफलाइन मोड में खुलवाने के लिए पिछले काफी समय से संघर्ष कर रहा था। आखिरकार विश्वविद्यालय प्रशासन ने 25 नवंबर से विश्वविद्यालय खोलने के लिए नोटिस जारी कर दिया। हस्ताक्षर अभियान और प्रदर्शन भी किया।

Source- https://www.bhaskar.com

Related posts

हरियाणा में ब्लैक फंगस का इलाज करने वाले अस्पतालों के नामों की लिस्ट बनाई गई, यहां करवाइए उपचार

Haryana Utsav

एमबीबीएस की नई फीस नीति वापस ले सरकार: एबीवीपी

Haryana Utsav

खिलाड़ी सुनीता कश्यप को उचित सम्मान दिलवाया जायेगा: रामचंद्र जांगड़ा

Haryana Utsav
error: Content is protected !!