Gohana

Guest teacher: गेस्ट टीचर को बिना नोटिस हटाने का आरोप

फोटो- सलोचना, गेस्ट शारीरिक शिक्षिका

-शिक्षिका ने दोबारा नौकरी पर रखने की मांग की

हरियाणा उत्सव/ गोहाना

बीपीएस महिला विश्वविद्यालय खानपुर कलां के कन्या गुरुकुल माध्यमिक विद्यालय में गेस्ट टीचर (अतिथि) शारीरिक शिक्षिका के पद पर कार्यरत सलोचना को बिना नोटिस हटाने का आरोप लगाया है। पीडिता सलोचना का कहना कि स्कूल प्राचार्या ने दुर्भावनावश उन्हें नौकरी से हटा दिया है। सलोचना अधिकारयों के कार्यालयों के चक्कर लगाने पर मजबूर हैं। दोबारा से नौकरी दिए जाने की मांग को लेकर सलोचना ने न्यायालय की शरण ली है।

सलोचना का कहना कि 2010 में कन्या गुरुकुल माध्यमिक विद्यालय में गेस्ट शारीरिक टीचर्स की भर्ती के लिए विज्ञापन निकाला गया था। मेरिट के आधार पर सलोचना का चयन हुआ था। सलोचना ने करीब 11 साल तक सेवाएं दी। सलोचना ने आरोप लगाया कि स्कूल प्राचार्या सुमिता उन्से दुर्भावना रखती थी। जिस कारण उन्हें बिना नोटिस और किसी उच्च अधिकारयों के निर्देश दिए बिना ही उन्हें नौकरी से निकाल दिया। प्राचार्या से नौकरी से हटाने का जवाब मांगा तो उन्होंने कहा कि स्कूल में वर्क लोड नहीं है। जबकि 2020-21 शैक्षणिक सत्र के दौरान स्कूल में करीब 1224 बच्चे थे। 1224 बच्चों पर केवल एक ही नियमित शारीरिक शिक्षक है। वहीं दूसरी ओर वश्वविद्यालय के अधिन चल रहे कैंपस स्कूल में करीब पांच सौ बच्चों पर दो शारीकि शिक्षक हैं। सलोचना ने बताया कि दोबरा नौकरी पर रखने की मांग को लेकर विवि की वीसी के अलावा अनेकों उच्च अधिकारयों के पास गुहार लगा चुकी है। लेकिन उनकी समस्या का समाधान नहीं हो पाया। सलोचना के पिता बसंत का कहना कि दो बार नई वीसी से भी मिल चुके हैं। लेकिन कोई भी समाधान नहीं हुआ। सलोचना ने अधिकारियों की कार्यवाही से निराश होकर न्यायालय की शरण ली है। मामला न्यायालय में चल रहा है।

सलोचना को वर्क लोड के आधार पर रखा गया था। स्कूल में वर्क लोड है या नहीं हर साल इसकी जांच होती है। जांच के आधार पर शिक्षकों को रखा जाता है। वर्क लोड नहीं होने के चलते शिक्षिका सलोचना हो हटाया गया था। अब उनका मामला न्यायालय में चला हुआ है। हमने न्यायालय में लिखित रूप में अपना पक्ष रख दिया है। वैसे भी यह मामला विश्वविद्यालय स्तर पर है, स्कूल स्तर पर नहीं।
-सुमिता सिंह, प्राचार्य, कन्या गुरुकुल माध्यमिक विद्यालय, विवि, खानपुर कलां

Related posts

किसानों को 25 करोड़ रुपये का भुगतान किया

Haryana Utsav

अंधविश्वास के झांसे में न फंसे, देश के वैज्ञानिकों पर भरोसा रखें-बाबा मनशाह

Haryana Utsav

भाजपा वाले जजपा को ऐसा धोएंगे सात जन्मों तक याद रखेंगे

Haryana Utsav
error: Content is protected !!