HaryanaSonipat

गोहाना व गन्नौर में बनेंगी (आइएमटी) इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशिप

गोहाना व गन्नौर में बनेंगी इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशिप (आइएमटी) 

एचएसआइआइडीसी ने किसानों से ई-भूमि पोर्टल पर मांगी भूमि की जानकारी
-प्रोजेक्ट सिरे चढऩे पर खुलेंगे विकास के रास्ते

हरियाणा उत्सव, सोनीपत/ रवि नारंग

 प्रदेश सरकार गोहाना व गन्नौर में इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशिप (आइएमटी) बनाएगी। एचएसआइआइडीसी ने दोनों जगह चिन्हित करके भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। दोनों आइएमटी के लिए 56 सौ एकड़ भूमि अधिग्रहण की जाएगी। ई-भूमि पोर्टल पर किसानों से उनकी जमीन की डिटेल मांगी गई है। सरकार की यह परियोजना सिरे चढऩे के बाद गोहाना व गन्नौर के विकास के रास्ते खुलेंगे।
         पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के कार्यकाल में गोहाना में इंडस्ट्रियल इस्टेट विकसित करने की योजना बनी थी। गोहाना के लाठ, जौली, बीधल, कटवाल आदि में करीब 6 हजार एकड़ जमीन अधिग्रहण करने की प्रक्रिया भी शुरू हुई थी। लाठ-जौली में ही यूपीए सरकार के कार्यकाल में रेल कोच फैक्ट्री लगाने की योजना भी बनी थी। प्रदेश में सत्ता परिवर्तन होने के बाद भाजपा सरकार ने हुड्डा सरकार के कार्यकाल से चली आ रही भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया को अंतिम चरण में पहुंचने के बाद रद कर दिया था। इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस के नेता अकसर भाजपा को घेरने की कोशिश कर करते हैं और विकास में पक्षपात का आरोप भी लगाते हैं। प्रदेश सरकार ने दोबारा आइएमटी बनाने की योजना पर काम शुरू कर दिया है। सरकार भूमि उपलब्ध होने पर गोहाना के साथ गन्नौर में आइएमटी बनाएगी। हरियाणा राज्य औद्योगिक और अवसंरचना विकास निगम लिमिटेड (एचएसआइआइडीसी) दोनों जगह आइएमटी के लिए 56 सौ एकड़ भूमि अधिग्रहण करेगी। 28 सौ एकड़ गोहाना और इतनी ही जमीन गन्नौर में अधिग्रहण की जाएगी। गोहाना में गांव नगर, सिकंदरपुर माजरा, माहरा, बड़ौता, रभड़ा और गोहाना ग्रामीण में भूमि अधिग्रहण की जाएगी। गन्नौर में लड़सौली, राजपुरा, गढ़ी खेड़ी व आसपास के गांवों में जमीन अधिग्रहण की जाएगी। एचएसआइआइडीसी ने ई-भूमि पोर्टल पर भूमि मालिकों के जमीन के संबंध में जानकारी मांग ली है। किसानों को 30 सितंबर तक जानकारी देनी होगी।

गोहाना में सरकारी उद्योगों की कमी
गोहाना उपमंडल विकास के मामले में काफी पिछड़ा है। इसका मुख्य कारण यहां सरकारी उद्योग न होना है। गांव आहुलाना स्थित चौ. देवीलाल सहकारी चीनी मिल को छोड़ कर यहां एक भी सरकारी उद्योग नहीं है। गोहाना में आइएमटी का प्रोजेक्ट सिरे चढऩे पर क्षेत्र के विकास को गति मिलेगी।

बेहतर कनेक्टिविटी को देख कर जगह चिन्हित की
एचएसआइआइडीसी ने आइएमटी के लिए जिस जगह को चिन्हित किया है वहां कनेक्टिविटी के कई विकल्प हैं। गांव नगर, बड़ौता, सिकंदरपुर माजरा, माहरा, रभड़ा की जिस जगह को चिन्हित किया गया है वह दो नेशनल हाईवे के बीच में आती है। इसी जगह के बीच से ही सोनीपत-गोहाना-जींद रेल मार्ग गुजरता है। इसी जगह के साथ ही दिल्ली से कटरा तक प्रस्तावित एक्सप्रेस-वे गुजरेगा। कनेक्टिविटी बेहतर होने के चलते आइएमटी जल्द विकसित हो सकेगी।

गोहाना व गन्नौर आइएमटी के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है। किसानों से ई-भूमि पोर्टल पर उनकी जमीन के संबंध में जानकारी मांगी गई है। किसान 30 सितंबर तक पोर्टल पर ऑनलाइन जानकारी दे सकते हैं।
कशिश-कार्यालय कार्यकारी अधिकारी, एसएसआइआइडीसी

Related posts

16 अगस्त से  कर सकेंगे मां वैष्णो देवी के दर्शन, पहले चरण में इतने लोगों को अनुमति –

Haryana Utsav

Farmer: खेत में सौलर पंप लगवाने पर किसानों को मिलेगी 75 प्रतिशत सब्सिडी

Haryana Utsav

जानिए गरीब कन्याओं की शादी में 51,000 रुपये शगुन कैसे मिलता है।

Haryana Utsav
error: Content is protected !!