ChandigarhGohanaHaryana

बरोदा उपचुनाव- मलिक गोत्र से कौन हो सकता है भाजपा प्रत्याशी

बरोदा उपचुनाव- मलिक गोत्र से कौन हो सकता है भाजपा प्रत्याशी

-मलिक गोत्र के 17 गांव करेंगे बरोदा उपचुनाव की हार-जीत का फैसला।

हरियाणा उत्सव, गोहाना/ बरोदा

हरियाणा के बरोदा उपचुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियां मैदान में हैं। वहीं बरोदा हलका को पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का गढ़ माना जाता है। यहां पर भाजपा का जाट नोन जाट का कार्ड नही चल सकता। क्योंकि बरोदा हल्का ग्रामीण क्षेत्र है और जाट वोट करीब 55 प्रतिशत हैं। जाटों की बात करे तो, मलिक गोत्र की सबसे ज्यादा वोट हैं। दूसरे नंबर पर नरवाल गोत्र और लठवाल गोत्र की वोट तीसरे स्थान पर है।
-हलके में मलिक गोत्र के 17 गांव हैं।
एसे में भाजपा मलिक गोत्र से अपना प्रत्याशी उतार सकती है। यहां पर सभी जातियों का चहता हो तो भाजपा के लिए प्रत्याशी फिट बैठता है। भाजपा के मलिक नेताओं की बात करेंगे, जो भाजपा को जीत दिला सकता है।
*भाजपा में मलिक गोत्र से विशाल मलिक, दादा बलजीत मलिक, जय सिंह मलिक, महेंद्र सिंह मलिक, एसीपी राजबीर सिंह मलिक,  युवा नेता अशोक मलिक भी शामिल हैं।

-अशोक मलिक

अशोक मलिक की बात करें तो इन्होंने दो चुनाव लडे हैं। अशोक मलिक गांव आहुलाना से बिलोंग करते हैं। अशोक ने जिला परिषद और चौ. देवी लाल सहाकरी चीनी मिल के डायरेक्टर का चुनाव लडा है। इन्होंने दोनों ही चुनाव दमदार तरीके से जीतें हैं। जिला परिषद चुनाव में 10 हजार वोट प्राप्त कर बडी जीत दर्ज की थी।
इन्होंने हाल में चीनी मिल के वाइस चेयरमैन का चुनाव भी अपने नाम किया है।आहुलाना गांव बडा गांव हैं और करीब 5 हजार वोट हैं। इकसे अलावा अशोक मलिक गांव मुडलाना के भांजे हैं। मुंडलाना गांव भी बड़ा गांव और करीब 7 हजार वोट हैं और लठवाल गोत्र की वोट तीसरे स्थान पर है। इस हिसाब से अशोक मलिक भाजपा के खाके में फिट बैठता है।  शुरू से इनका सहयोग भाजपा संगठन को मजबूत करने में रहा है। ये अपने पैतृक गांव आहुलाना में ही रहते हैं। चीनी मिल के वाइस चेयरमैन होने के नाते से किसानों से सीधा जुडाव है। ऐसे में भाजपा पार्टी अशोक मलिक पर दांव खेल सकती है।

-दादा बलजीत मलिक
मलिक खाप के दादा बलजीत मलिक भी गांव आहुलाना से संबध रखते हैं। भाजपा के पूर्व प्रत्याशी रहे चुके हैं। इनका निवास स्थान गुरुग्राम में है। ज्यादातर गोहाना स्थित मलिक भवन में मिलते हैं। 2014 के विधानसभा चुनाव में खास प्रभाव नही छोड पाए थे। दूसरी बार भाजपा से टिकट चाहते हैं।

-विशाल मलिक
विशाल मलिक गांव आंवली से बिलोंग करते हैं। विशाल मलिक के अनुसार वह अमेरिका में अपना कारोबार करते थे। अमेरिका का कारोबार छोड कर हरियाणा की राजनीति में अपना भाग्य आजमाएंगे।

-महेंद्र सिंह मलिक
महेंद्र सिंह मलिक गांव भैंसवाल कलां से बिलोंग करते हैं। हाल ही में भाजपा में शामिल हुए हैं। ये भी गोहाना में शेर सिंह पब्लिक स्कूल का संचालन करते हैं। ये भी गोहाना में रहते हैं।

-एसीपी राजबीर सिंह मलिक
एसीपी राजबीर सिंह मलिक भी भाजपा से टिकट चाहते हैं। इनका गांव रिवाडा है। हाल में दिल्ली पुलिस में एसीपी के पद पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। ये भी बरोदा से टिकट चहते हैं।

-ठेकेदार जय सिंह मलिक
ठेकेदार जय सिंह मलिक भाजपा के खेल प्रकोष्ठ के जिला संयोजक हैं। इनका गांव न्यात है और गोहाना हलके में लगता है। जय सिंह गोहाना में रहते हैं और बरोदा से टिकट चहते हैं।

Related posts

गोहाना निकाय चुनाव: कांटे की टक्कर में तीसरा मार सकता है बाजी

Haryana Utsav

प्रकृति की रक्षा के लिए युवाओं की भागीदारी जरूरी-कंवरपाल गुर्जर

Haryana Utsav

दिन में गर्मी, शाम को तेज हवा के साथ बारिश, गर्मी से मिली राहत

Haryana Utsav
error: Content is protected !!