Delhi

सौ साल से ज्यादा का रिकार्ड टूटने की संभावना, 3 से 5 डिग्री तापमान बढऩे की संभावना

Mousam

सौ साल से ज्यादा का रिकार्ड टूटने की संभावना, 3 से 5 डिग्री तापमान बढऩे की संभावना

हरियाणा उत्सव: डेस्क

अप्रैल माह का आखिरी पश्चिमी विक्षोभ कश्मीर में पहुंच गया है। जिस कारण अगले 2 दिन तक पहाड़ों से मैदान तक तापमान में 2 से 3 डिग्री तक की गिरावट आएगी, लेकिन 22 अप्रैल से राहत का यह दौर खत्म हो जाएगा। फिर तापमान बढऩा शुरू होगा। वहीं, अप्रैल महीने के आखिरी 4-5 दिन में लू चलनी शुरू होंगी।

अप्रैल माह में होगी रिकार्ड तोड गर्मी
मौसम विभाग की माने तो इस बार अप्रैल महीने में गर्मी के सभी रिकार्ड टूट सकते हैं। निजी मौसम एजेंसी के अनुसार 1 से 19 अप्रैल तक दिल्ली के बस स्टेशन सफदरजंग का अधिकतम तापमान सामान्य (36.6 डिग्री सेल्सियस) से अधिक बना रहा। अप्रैल के बचे हुए दिनों में तापमान लगातार बढ़ता जाएगा। अगर बीते दो सालों की बात करें तो 2020 और 2021 में अप्रैल का औसत तापमान 35.5 डिग्री और 37.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। वहीं इस बार औसत तापमान 40 डिग्री तक रह सकता है, जो 120 साल में कभी भी दर्ज नहीं हुआ है।

औसतन तापमान 3 डिग्री तक बढ़ सकता है
शर्मा ने बताया कि औसत तापमान एक डिग्री बढऩा भी बहुत बड़ी बात है। इस बार जो स्थितियां बन रही हैं, उन्हें देखकर लगता है कि औसत तापमान 3 डिग्री तक ज्यादा रह सकता है। सिर्फ दिल्ली ही नहीं बल्कि पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में भी तापमान सामान्य से 3 से 5 डिग्री तक ज्यादा रहेगा। इन राज्यों में अप्रैल महीने में गर्मी के सभी रिकॉर्ड टूट सकते हैं।

122 साल का रिकार्ड मार्च माह में टूटा
बता दें कि इस साल गर्मी ने पिछले कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। मार्च और अप्रैल में ही भयानक गर्मी से लोगों का जीना मुहाल हो गया। 11 अप्रैल को दिल्ली में 72 साल का गर्मी का रिकार्ड टूट गया। विशेषज्ञों का कहा कि 72 साल बाद अप्रैल के फस्र्ट हाफ में तापमान 42 डिग्री से ज्यादा रिकॉर्ड किया गया। इसी तरह मार्च 2022 में गर्मी ने पिछले 122 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया था।

बिहार में तेज आंधी-तूफान के चलते 3 लोगों की मौत
बिहार का मौसम 24 घंटे में बदल गया। रात को वैशाली, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, मोतिहारी, पूर्व और पश्चिम चंपारण में बारिश के साथ तेज आंधी चली है। इन जिलों में ओले भी गिरे। आंधी में पेड़ गिरने से तीन लोगों की मौत हो भी हो गई, जबकि 6 लोग घायल हो गए

अप्रैल होगा सबसे ज्यादा गर्म
अप्रैल महीने का आखिरी पश्चिमी विक्षोभ कश्मीर में दस्तक दे चुका है। इसकी वजह से अगले 2 दिन तक पहाड़ों से मैदान तक तापमान में 2 से 3 डिग्री तक की गिरावट आएगी, लेकिन 22 अप्रैल से राहत का यह दौर खत्म हो जाएगा। फिर तापमान बढऩा शुरू होगा। वहीं, अप्रैल महीने के आखिरी 4-5 दिन में लू चलने लगेगी।

अप्रैल में टूट सकता है रिकॉर्ड
मौसम विज्ञानियों का मानना है कि इस बार अप्रैल महीने में गर्मी के सभी रिकॉर्ड टूट सकते हैं। निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट के प्रमुख वैज्ञानिक जीपी शर्मा का कहना है कि 1 से 19 अप्रैल तक दिल्ली के बस स्टेशन सफदरजंग का अधिकतम तापमान सामान्य (36.6 डिग्री सेल्सियस) से अधिक बना रहा। अप्रैल के बचे हुए दिनों में तापमान लगातार बढ़ता जाएगा।
अगर बीते दो सालों की बात करें तो 2020 और 2021 में अप्रैल का औसत तापमान 35.5 डिग्री और 37.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। वहीं इस बार औसत तापमान 40 डिग्री तक रह सकता है, जो 120 साल में कभी भी दर्ज नहीं हुआ है।

औसत तापमान 3 डिग्री तक बढ़ सकता है
शर्मा ने बताया कि औसत तापमान एक डिग्री बढऩा भी बहुत बड़ी बात है। इस बार जो स्थितियां बन रही हैं, उन्हें देखकर लगता है कि औसत तापमान 3 डिग्री तक ज्यादा रह सकता है। सिर्फ दिल्ली ही नहीं बल्कि पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में भी तापमान सामान्य से 3 से 5 डिग्री तक ज्यादा रहेगा। इन राज्यों में अप्रैल महीने में गर्मी के सभी रिकॉर्ड टूट सकते हैं।
मार्च 2022 में टूटा था 122 साल का रिकॉर्ड
बता दें कि इस साल गर्मी ने पिछले कई सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। मार्च और अप्रैल में ही भयानक गर्मी से लोगों का जीना मुहाल हो गया। 11 अप्रैल को दिल्ली में 72 साल का गर्मी का रिकॉर्ड टूट गया। विशेषज्ञों का कहा कि 72 साल बाद अप्रैल के फस्र्ट हाफ में तापमान 42 डिग्री से ज्यादा रिकॉर्ड किया गया। इसी तरह मार्च 2022 में गर्मी ने पिछले 122 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया था।

Source- https://www.bhaskar.com

Related posts

PM ने कहा- LOC से LAC तक देश की संप्रभुता पर जिसने आंख उठाई, सेना ने उसी भाषा में दिया जवाब

Haryana Utsav

सर्पदंश से मौत पर मिलेगा 4 लाख रुपये मुआवजा

Haryana Utsav

दिल्ली में बढ़े एक लाख मतदाता, महिलाओं की भागीदारी अधिक

Haryana Utsav
error: Content is protected !!