February 28, 2024
GohanaPolitics

गोहाना से जेजेपी को बड़ा झटका, पूर्व हलका अध्यक्ष भाजपा में शामिल

फोटो-2- गुरुग्राम में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष के साथ पार्टी ज्वाइन करते हुए नरेंद्र गहलावत साथ में जिला अध्यक्ष तीर्थ राणा व अन्य।

-पूर्व हलका अध्यक्ष नरेंद्र गहलावत ने साथियों संग जेजेपी छोड़ी

हरियाणा उत्सव/ गोहाना (भंवर सिंह)

गोहाना से दो बार हलका अध्यक्ष रहे नरेंद्र गहलावत ने जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए है। पहले नवरात्रे को शुभ मानते हुए नरेंद्र गहलावत 15 अक्टूबर को ग्ररुग्राम में पहुंचे। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ओपी धनखड के मार्गदर्शन में भाजपा में शामिल हुए। गहलावत ने भाजपा में शामिल होकर जेजेपी को बड़ा झटका दिया है।
नरेंद्र गहलावत ने बातया कि पहले नवरात्रे को जिला अध्यक्ष तीर्थ राणा की अध्यक्षता में गुरुग्राम स्थित पार्टी के प्रांतीय कार्यालय में समारोह किया गया था। समारोह में प्रदेश अध्यक्ष ओपी धनखड ने उन्हें पार्टी का पटका पहनाकर पार्टी में शामिल किया। गहलावत जेजेपी पार्टी के हलका अध्यक्ष के पद से हटाए जाने पर नाराज चल रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि बिना विश्वास में लिए उनको हलका अध्यक्ष से हटा दिया। उन्होंने पार्टी के शीर्ष नेताओं से भी अपनी नाराजगी जाहीर की थी, लेकिन शीर्ष नेताओं ने उनकी नाराजगी को गंभीरता से नहीं लिया। जिससे नरेंद्र गहलावत ओर भी नाराज हो गए। जिसके चलते उन्होंने जेजेपी को बाए-बाए कर दिया और भाजपा पार्टी का दामन थाम लिया।

-गहलावत ने पूर्व पार्टियों की जिम्मेदारियों को निष्ठा से निभाया
नरेंद्र गहलावत ने 1987 में इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) को ज्वाइन किया था। विभिन्न पदों पर रहते हुए अपनी जिम्मेदारी को निष्ठ से पूरा किया। पार्टी को मजबूत करने का कार्य किया। करीब आठ साल इनेलो में जिला महासचिव के पद पर रहे।
उसके बाद जेजेपी में शामिल हुए। जेजेपी में गोहाना शहरी प्रधान, व्यापार प्रकोष्ठ के जिला प्रधान और पिछले चार साल से गोहाना हलका प्रधान की जिम्मेदार को संभाल रहे थे। सभी पदों की जिम्मेदारी को निष्ठा से निभाया और पार्टी को मजबूत करने का काम किया। जेजेपी पार्टी के शीर्ष नेताओं से उचित मान-सम्मान नहीं मिलने के बाद उन्होंने पार्टी को छोड दिया और भाजपा में शामिल हो गए।

Related posts

भगवान परशुराम जयंती पर हवन कर सुख-शांति की कामना की

Haryana Utsav

दिसंबर-जनवरी महीने में हाड़ कंपाने वाली ठंड

Haryana Utsav

क्षतिपूर्ति पोर्टल से डाटा डिलिट, मुआवजा मिलने में होगी परेशानी

Haryana Utsav
error: Content is protected !!