GohanaHaryanaSonipat

– ACS ने मंडियों में बिना शेड्यूल लाई गई फसल की खरीद के दिए निर्देश 

ACS Denender Singh in Gohana

 किसानों की मांग पर मंडियों में बिना शेड्यूल लाई गई फसल की खरीद के दिए निर्देश 

– एसीएस ने किसानों की मांगों व समस्याओं का मौके पर किया समाधान
-पोर्टल में किसानों की सुविधा के लिए किया जा रहा बदलाव
हरियाणा उत्सव/ गोहाना
     सिंचाई व जन स्वास्थ्य तथा कृषि विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस) देवेंद्र सिंह ने शनिवार को गोहाना और खरखौदा की अनाज मंडियों का दौरा करते हुए बाजरा तथा धान की फसलों की आवक, खरीद और उठान आदि का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने किसानों से सीधी बातचीत करते हुए उनकी मांगों व समस्याओं की सुनवाई करते हुए मौके पर ही तुरंत समाधान भी किया।
ACS Devender Singh in Kharkhoda Mandi
             मंडियों के दौरे से पहले एससीएस देेवेंद्र सिंह ने गोहाना के विश्राम गृह में अधिकारियों की बैठक लेते हुए जरूरी दिशा-निर्देश भी दिए। उन्होंने जिलेभर की मंडियों की स्थिति और व्यवस्थाओं की पूर्ण जानकारी ली। उन्होंने कहा कि किसान हमारी प्राथमिकता है, जिन्हें उनकी फसलों को बेचने में कहीं भी किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं आनी चाहिए। किसानों को फसल बिक्री में बेहतरीन सुविधाएं दी जाएं। उन्होंने उपायुक्त को निर्देश दिए कि मंडियों में अभी फसलों की आवक की शुरुआत हुई है। ऐसे में अभी से स्थिति को पूर्ण रूप से नियंत्रण में रखें। उन्होंने बारदाना तथा ट्रांसपोर्टेशन की सुविधाओं की भी विस्तार से समीक्षा की। साथ ही उन्होंने भैंसवाल कलां खरीद केंद्र के संदर्भ में संबंधित अधिकारी को निर्देश दिए कि वह फसलों की खरीद के लिए विकल्प अपना सकता है।
          बैठक के उपरांत एसीएस देवेंद्र सिंह ने गोहाना की नई अनाज मंडी का दौरा किया। उन्होंने बाजरा व धान की फसलों में नमी की जांच करते हुए संबंधित अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नमी मापते समय संबंधित किसान की पूर्ण संतुष्टि की जाए। नमी मापने के लिए एक से अधिक मशीनों का प्रयोग किया जाए, ताकि किसान को किसी प्रकार की शिकायत न रहे। उन्होंने किसानों से बातचीत करते हुए कहा कि सुनियोजित ढंग़ से मंडियों में फसलों की खरीद की व्यवस्था की गई है। आवक के साथ उठान व पेमेंट आदि की बेहतरीन व्यवस्थाएं की गई हैं। . इस दौरान किसानों ने मांग की कि शेड्यूल अनुसार फसल आने में देरी होने पर किसानों की फसल की खरीद की व्यवस्था की जाए। एसीएस सिंह ने तुरंत मुख्यालय में विभागीय आला अधिकारियों से मोबाईल पर बातचीत करते हुए इस समस्या का मौके पर ही समाधान किया। उन्होंने कहा कि 5 अक्तूबर तक किसानों की फसलों को इस प्रकार से बिक्री की सुविधा रहेगी। इसके बाद मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर किसानों को सुविधा दी जाएगी कि वे अपनी सुविधा अनुसार मंडियों में फसल लाने के समय में बदलाव कर सकेंगे। यदि वे पूर्व निर्धारित शेड्यूल पर फसल लाने में असमर्थ हैं तो वे शेड्यूल में बदलाव कर सकेंगे। ऐसी ही मांग खरखौदा में भी किसानों ने प्रस्तुत की।
       एसीएस देवेंद्र सिंह ने गोहाना मंडी में ट्रांसपोर्टर तथा मिलर और आढ़ती एसोसिएशन के साथ भी अलग से बैठक की। उन्होंने सबको निर्देश दिए कि किसानों को किसी प्रकार की समस्या नहीं होने दें। किसानों को उनकी फसलों की बिक्री में पूर्ण सहयोग व सुविधा प्रदान की जाए। उन्होंने कहा कि आवक के तुरंत बाद खरीद होनी चाहिए। चौबीस घंटे के भीतर फसल का उठान सुनिश्चित हो। उन्होंने आढ़तियों की मांग पर चौबीस दुकानों संबंधी मामले का समाधान भी करवाया, जिससे आढ़तियों में भी खुशी की लहर देखने को मिली।
         तदोपरांत अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेंद्र सिंह ने खरखौदा की अनाज मंडी का निरीक्षण किया, जहां उन्होंने मंडी में प्रवेश करते ही किसानों व आढ़तियों की मांगों की सुनवाई की। उनके समक्ष मंडी की चारदिवारी व गेट के निर्माण सहित रोड तथा सीवर संबंधी समस्याएं रखी गई।  उन्होंने मौके पर ही सभी मांगों को पूरा करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने सुरक्षा के लिए चौकीदारों की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि वे जल्द ही दोबारा मंडी का दौरा करेंगे तब तक इस दिशा में कार्य प्रगति पर होना चाहिए। उन्होंने निर्देश दिए कि मंडी में समस्याओं के निवारण के लिए भी अलग से अधिकारी की व्यवस्था की जाए।
          इस मौके पर उपायुक्त श्याम लाल पूनिया ने एसीएस सिंह को भरोसा दिलाया कि उनके निर्देशों की ईमानदारी से पूर्ण अनुपालना की जाएगी। किसानों को उनकी फसलों की बिक्री में कोई भी समस्या नहीं होने देंगे। उन्होंने बताया कि गत वर्ष सोनीपत में करीब पांच हजार मिट्रिक टन धान की खरीद की गई थी। इस बार लगभग यही लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अभी तक गोहाना में करीब 25 मिट्रिक टन धान की आवक हो चुकी है। उन्होंने कहा कि सोनीपत व गोहाना मंडियों में अभी तक करीब 139 मिट्रिक टन बाजरा तथा खरखौदा में लगभग 18 मिट्रिक टन बाजरे की खरीद की जा चुकी है। बाजरा की कुल खरीद का लक्ष्य करीब 3200 मिट्रिक टन का है।
उपायुक्त पूनिया ने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बाजरा व धान बेचने के लिए किसान अपने शेड्यूल के अनुसार ही मंडियों में फसल लेकर आएं। शेड्यूल देखने के लिए जिला के किसान फसल डॉट हरियाणा डॉट जीओवी डॉट ईन वेबसाइट पर जाकर सूची देख सकते हैं। इसके अलावा एक दिन पहले किसानों के मोबाइल पर एसएमएस भी भेजे जा रहे हैं। उन्होंने किसानों से अपील की कि मंडी में फसल लेकर आते समय यह सुनिश्चित करें कि उसकी गुणवत्ता सही हो। उसे अच्छी प्रकार से सुखा कर लाएं ताकि मंडी में किसी प्रकार की परेशानी ना हो। उन्होंने बताया कि दिए गए समय अनुसार ही किसान मंडी में अपनी फसल लेकर आएं, ताकि सामाजिक दूरी बनी रहे। उन्होंने जानकारी दी कि सभी मंडियों में कोविड-19 के संरक्षण के लिए सभी प्रकार के इंतजाम किए गए हैं। सभी किसान अधिकारियों का पूर्ण सहयोग करें तथा सामाजिक दूरी बनाए रखें और मंडियों में मास्क पहनकर आएं। इस अवसर पर एसडीएम आशीष कुमार, एसडीएम श्वेता सिंह, नगराधीश उदय सिंह, तहसीलदार रोशनलाल, डीएफएससी तथा हैफेड के प्रबंधक और मार्केट कमेटियों के सचिव आदि संबंधित अधिकारीगण मौजूद थे। 

Related posts

डॉ. कपूर का नामांकन वापस,  भाजपा की मुश्किलें बढ़ी

Haryana Utsav

सम्मेलन वैश्य समाज की राजनीतिक ताकत को नई दिशा देगा

Haryana Utsav

*कोनसी ग्राम पंचायत आरक्षित और अनारक्षित हैं*

Haryana Utsav
error: Content is protected !!