Sonipat

समाधान शिविर’ में जनता की समस्याओं का मौके पर किया जा रहा समाधान

-उपायुक्त डॉ० मनोज कुमार ने ‘समाधान शिविर’ लगाकर सुनी नागरिकों की समस्याएं

Haryana utsav, Sonipat
हरियाणा सरकार ने जनता की शिकायतों के समाधान के लिए ‘समाधान शिविर’ के रूप में नई पहल की है। सरकार के निर्देशानुसार जिला प्रशासन की ओर से जिला में ‘समाधान शिविर’ लगाकर लोगों की विभिन्न प्रकार की समस्याओं का मौके पर ही समाधान सुनिश्चित किया जा रहा है। उपायुक्त डॉ० मनोज कुमार ने गुरूवार को लघु सचिवालय स्थित सभागार में सुबह 9 बजे से 11 बजे तक संबंधित अधिकारियों के साथ ‘समाधान शिविर’ लगाकर आमजन द्वारा मिली 98 समस्याएं सुनीं और संबंधित विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों को प्राथमिकता के आधार पर समस्याओं का समाधान करने के निर्देश दिए।
समाधान शिविर में आम नागरिकों की प्रॉपर्टी आईडी, परिवार पहचान पत्र, राशन कार्ड, बिजली, पानी तथा विभिन्न सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाओं आदि समस्याएं सुनी गई। उपायुक्त ने मौके पर ही मौजूद संबंधित विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों के माध्यम से नागरिकों से प्राप्त कई समस्याओं का तत्परता से समाधान करते हुए शिकायतकर्ताओं को राहत पहुंचाई। इस दौरान सोनीपत ककरोई रोड़ पर सीवर लाईन व सडक़ को दुरूस्त करवाने को लेकर आई शिकायत पर उपायुक्त ने तुरंत नगर निगम को पत्र जारी किया कि इस सीवर लाईन को जल्द ठीक करवाया जाए ताकि वहां पर सडक़ा का निर्माण हो सके और लोगों को आने जाने में हो रही दिक्कत से निजात मिल सके।
उपायुक्त ने कहा कि सरकार के निर्देशानुसार सुबह 9 बजे से 11 बजे तक जिला मुख्यालय और उपमंडल स्तर पर कार्य दिवस में समाधान शिविरों का आयोजन शुरु कर दिया गया है। यह सरकार की जन समस्याओं के समाधान की नई पहल है। उन्होंने बताया कि इन शिविर में मुख्यतया: जनता से सीधे रूप से जुड़े प्रॉपर्टी आईडी, परिवार पहचान पत्र, जमीन रजिस्ट्रेशन, स्थानीय शहरी निकाय से संबंधित मकान का नक्शा तथा नो ड्यूज प्रमाण पत्र, सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाएं, राशन कार्ड और राशन वितरण, बिजली, पानी, सिंचाई आदि के अलावा क्राइम संबंधित समस्याएं सुनी जा रही हैं। उन्होंने समाधान में शिविर में उपस्थित संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि शिविर में आने वाली समस्याओं को अलग-अलग श्रेणियों में बांटा जाए। उन्होंने कहा कि जिन शिकायतों का निवारण तत्काल हो सकता है उन्हें प्रथम श्रेणी में रखा जाए। एक सप्ताह के भीतर समाधान होने वाली शिकायतों को द्वितीय श्रेणी में रखा जाए। उन्होंने कहा की ऐसी शिकायतों के निवारण के उपरांत शिकायतकर्ता से फोन पर फीडबैक भी लिया जाए।
इस मौके पर अतिरिक्त उपायुक्त अंकिता चौधरी, डीसीपी नरेन्द्र सिंह, नगराधीश पूजा कुमारी, डीआरओ हरिओम अत्री सहित अनेक विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

Related posts

पहरावर की जमीन गौड़ संस्था को ही मिलेगी, सरकार ने लिया फैसला- सांसद रमेश कौशिक

Haryana Utsav

हेलमेट के चालान शहर से बाहर काटने की मांग

Haryana Utsav

नए एमडी उदय सिंह ने संभाला आहुलाना चीनी मिल का कार्यभार

Haryana Utsav
error: Content is protected !!